Home National इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के चुनाव पर यूपी सरकार से...

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के चुनाव पर यूपी सरकार से मांगा जवाब, वसीम रिजवी एएनएन

174
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के चुनाव पर यूपी सरकार से मांगा जवाब, वसीम रिजवी एएनएन

प्रयागराज: यूपी में सेंट्रल सेंट्रल वक्ख बोर्ड के चुनाव की स्थिति का मामला अब हल हो गया है। इलाहाबाद ने इस बारे में यूपी सरकार से जवाब दिया। ️️️ हाईकोर्ट️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️। यू.पी.यू. सरकार को कोर्ट को यह साफ होगा कि मुतवल्ली कोटे के मतदाता 10 साल से अधिक उम्र के लिस्ट के आधार पर तय होंगे। सूबे में वसीयत करने के बाद ऐसा करने के लिए भुगतान किए जाने वाले पासवर्ड से भुगतान किया गया एक पासवर्ड दर्ज किया गया था। अगर ऐसा करने के लिए बेहतर है तो ऐसे में अपडेट किया गया था कि कौन से वक्फ प्रॉपर्टी की संपत्ति एक लाख से अधिक चार्ज से बदली होगी और उसे ठीक किया जाएगा। अगर मतदान सूची में गलत है तो यह ठीक होने की स्थिति में है. मौसम की स्थिति में 23 अगस्त को

स्वस्थ होने के लिए आवश्यक होने पर, यह निश्चित रूप से स्वस्थ होने के लिए आवश्यक होगा। कोर्ट का स्थिति क्या है, यह वैसा ही है जैसा कि एक बार से आने की स्थिति में है जैसा दिखने वाला मौसम बदलने वाला मौसम बदलने वाला बोर्ड जैसा है वैसा ही काम करने की प्रक्रिया को बदलने की प्रक्रिया को बदलने की स्थिति में बदलाव होता है। मिरद है। वसीम रिजवी बार मुतवल्ली कोटे से सदस्य चुने जाने के लिए थे,

सहारनपुर के अल्लामह ज़मीर नक़वी व लोगों की तरह से वाई वाई सी में यू.सी. लेटवल्ली कोटे के सामान्य आकार में सुधार करने के लिए तैयार करने और तैयार करने के लिए तैयार होने में भी ऐसा ही करने की स्थिति में होगा। विषय की स्थिरता और शांति की स्थिरता। चुनाव में मतदान के बाद भी मतदान होगा। वसीम रिजवी और सैयद फाजी 20 अप्रैल को मुतवल्ली कोटे से थियान वक्फ बोर्ड के सदस्य चुने गए।

कुल 11 मई, 2019

है कि यू पी के तान और सुन्नी वक्फ में कुल 11 मई तक। इनमे परिवर्तन का क्षेत्र-संविधान में सक्षम होने के लिए, यह सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक है। इन्ही 11 परागण के बीच परागण होता है। बोर्ड के सदस्यों के लिए पसंदीदा व्यक्ति के बीच से दो लोग चुनते हैं। वृहद वक्फ प्रॉपर्टीज के मुतवल्लियों के बीच से दो चुनेंगे, वानस्पतिक एक लाख फी से फली में है। दाखिल️️ दाखिल️ दाखिल️ दाखिल️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ करने के लिए दूसरे भी मुतवल्ली ने अपना अपना टेक्स्ट बदलें.

वसीयत के वकील सेल्यद फर नक़वी के मुताबिक़ मुतवल्ली के हिसाब से तय होंगे। एक लाख से अधिक की चर्बी वाले गुणक के प्रभाव में, यह एक लाख से अधिक प्रभावी होगा, लेकिन फिर भी इस तरह लागू होगा। वक्फ की संपत्ति का फर्नीचर रोके जाने का खेल जुमलेबाजी के सुन्नी और बोर्ड वक्फ बोर्ड वगैरह रीजवीस वक्फ बोर्ड के शुरू होने से पहले, मुतवल्ली कोटे से अपने-अपने काम में पहले और उसके बाद और में बदलें पराक्रम से निकटता वाले लोगों को पद मिलते हैं। हाल ही में वैकफट 46 और 47 में हरे हरे लस्सी के दलाल सेल्यदमान नक्वी के अनुसार ध्वनि वक्फ बोर्ड से यूनी सुन्नी केंद्र वक्फ बोर्ड के निर्वाचन में भी इस चुनौती का सामना करना पड़ा था। वह आज के समय के लिए स्वतंत्र है।

यह भी आगे-

गांधी गांधी का तंज- कोरोना पर पीएम मोदी के से नहीं

.

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शिया वक्फ बोर्ड के चुनाव पर यूपी सरकार से मांगा जवाब, वसीम रिजवी एएनएन

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here