Home Sports ऐश्वर्य प्रताप तोमर ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में जीता गोल्ड...

ऐश्वर्य प्रताप तोमर ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन में जीता गोल्ड मेडल / ISSF वर्ल्ड कप ऐश्वर्या प्रताप तोमर ने 50 मीटर राइफल 3 पोजिशन में गोल्ड जीता

4
भारतीय निशानेबाज ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर (Twitter)

भारतीय निशानेबाज ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर (ट्विटर)

युवा भारतीय निशानेबाज ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर ने बुधवार को दिल्ली आईएसएसएफ विश्व कप की पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन इवेंट में गोल्ड मेडल अपने नाम किया और मेजबान देश का शीर्ष पर स्थान मजबूत किया।

नई दिल्ली। युवा भारतीय निशानेबाज ऐश्वर्य प्रताप सिंह तोमर ने बुधवार को दिल्ली आईएसएसएफ विश्व कप की पुरुषों की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन इवेंट में गोल्ड मेडल अपने नाम किया और मेजबान देश का शीर्ष पर स्थान मजबूत किया। भोपाल के 20 साल के ऐश्वर्य ने डॉ। कर्णी सिंह शूटिंग रेंज पर 462.5 अंक से पहला स्थान हासिल किया और बुश के स्टार राइफल निशानेबाज इस्तवान पेनी (461.6) और डेनमार्क के स्टेफेन ओलसेन (450.9) से आगे रहे। यह भारत का इस टूर्नामेंट में आठवां गोल्ड मेडल है।

फाइनल में भारत के अनुभवी संजीव राजपूत और नीरज कुमार ने भी क्वॉलिफाई किया था लेकिन वे क्रमशः: छठे और आठवें स्थान पर रहे। ऐश्वरी ने शानदार शुरुआत करते हुए कुछ समय तक बढ़त भी बरकरार रखी, लेकिन उन्होंने एलिमिनेशन चरण में 10.4, 10.5 और 10.3 अंक जुटाकर वापसी की।

ऐश्वर्य टोक्यो ओल के लिए कोटा हासिल कर चुके हैं। उन्होंने 2019 एशियाई निशानेबाजी कार्यशाला की 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीतकर भारत के लिए ओलम्पिक हासिल किया था। उन्होंने तीन दिन पहले दीपक कुमार और पंकज कुमार के साथ मिलकर पुरुष टीम एयर राइफल इवेंट में सिल्वर मेडल भी जीता था।

राजपूत क्वॉलिफिकेशन में 1172 अंक से शीर्ष पर थे जबकि ऐश्वर्य और नीरज कुमार ने 1165 का समान स्कोर जुटाया। इस्तवान पेनी, ऐक्सी लेप्पा (मलेशियाई), जान इलास्टिकबिहलर (कला), जुहो कुर्की (बास्केटबॉल) और ओलसेन फाइनल में जगह बनाने वाले अन्य निशानेबाज थे। फाइनल 45 शूट का मुकाबला होता है जिसमें नीलिंग, प्रोन और स्टैडिंग की तीन श्रृंखला होती है। ऐश्वर्य नीलिंग पोजिशन में 155.0 अंक से आठ पुरुषों के फाइनल में सबसे आगे थे जबकि प्रोन में 310.5 अंक से ओलसेन (311.4) के पीछे और पेनी (309.5) से आगे दूसरे स्थान पर रहे।

गनीमत और अंगद की मिश्रित जोड़ी ने स्कीट निशानेबाजी में जीता गोल्ड
भारतीय निशानेबाज गनीमत सेलों और अंगद वीर सिंह बाजवा की जोड़ी ने आईएसएसएफ विश्व कप में प्रतिइवेंट के पांच दिन मंगलवार को यहां स्कीट इवेंट के मिश्रित टीम वर्ग में गोल्ड मेडल जीत कर मेजबान टीम का दबदबा कायम रखा। क्वॉलिफिकेशन में 141 अंकों के साथ शीर्ष पर रहने वाली 20 साल की गनीमत और 25 साल के अंगद की भारतीय जोड़ी ने फाइनल में कजाखिस्तान की ओगलांगरिना और अलेक्जेंडर इनचशेंस्को की जोड़ी को 33-29 से शिकस्त दी।

इस घटना में भाग ले रही परिनाज धालीवाल और मेराज अहमद खान की एक और भारतीय जोड़ी हालांकि यहां डा। कर्णी सिंह निशानेबाजी परिसर में मामूली अंतर से ब्रॉन्ज मेडल से चूक गए। कतर की रीम ए शारशानी और राशिद हमद की मिश्रित जोड़ी ने ब्रॉन्ज मेडल की तुलना में भारतीय जोड़ी को 32-31 से हरा दिया। गोल्ड मेडल के मैच में विश्व रैंकिंग में 62 वें स्थान पर काबिज अंगद पूरे लय में दिखे और उनका 20 में से सिर्फ एक लक्ष्य चूका जबकि गनीमत छह बार सटीक निशाना लगाने से चूक गयी।

पहले सेट के 20 निशाने के बाद भारत और कजाखिस्तान की टीमें 16-16 अंकों के साथ बराबरी पर थी। गनीमत ने दूसरे हाफ में शानदर सुधार की और चार सटीक निशाने लगाये। इस दौरान अंगद एक निशाना लगाने से चूक गए। ओगला और अलेक्जेंडर की जोड़ी इस दौर में दो-दो बार चूकीं जिससे भारतीय टीम ने 23-20 की बढ़त हासिल कर ली। अंतिम चार शॉट (स्कैनर) में, अंगद ने एक बार फिर आत्मविश्वास से भरा प्रदर्शन किया लेकिन गनीमत आखिरी निशाने पर डिफ़ॉल्ट गयी। इसके बावजूद कोई बात नहीं हुई क्योंकि कजाखिस्तान के निशानेबाजों के तीन निशाने सही नहीं लगे।

मौजूदा टूर्नामेंट में यह गनीमत का तीसरा मेडल है। इससे पहले उन्होंने सोमवार को महिला स्कीट के फाइनल में परिनाज और कार्तिक सिंह शख्तावत के साथ सिल्वर मेडल जीता था। 20 साल की गनीमत ने इससे पहले महिला स्कीट इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीता था। वह आईएसएसएफ विश्व कप के स्कीट के व्यतिगत महिला वर्ग में मेडल जीतने वाली पहली भारतीय महिला बनी थी। अंगद के लिए यह टूर्नामेंट का दूसरा गोल्ड है। उन्होंने सोमवार को पुरुषों के स्कीट फाइनल में गुरजोत खांगुरा, मैराज अहमद खान के साथ पीला तमगा हासिल किया था।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i)w[l]=w[l])(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript() [];
var gptRan = false;
PWT.jsLoaded = function()
loadGpt();
;
(function()
var purl = window.location.href;
var url=”//ads.pubmatic.com/AdServer/js/pwt/113941/2060″;
var profileVersionId = ”;
if (purl.indexOf(‘pwtv=’) > 0)
var regexp = /pwtv=(.*?)(&
var wtads = document.createElement(‘script’);
wtads.async = true;
wtads.type=”text/javascript”;
wtads.src = url + profileVersionId + ‘/pwt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(wtads, node);
)();
var loadGpt = function()
// Check the gptRan flag
if (!gptRan)
gptRan = true;
var gads = document.createElement(‘script’);
var useSSL = ‘https:’ == document.location.protocol;
gads.src = (useSSL ? ‘https:’ : ‘http:’) + ‘//www.googletagservices.com/tag/js/gpt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(gads, node);

// Failsafe to call gpt
setTimeout(loadGpt, 500);

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)
if((forced === true && window.initAdserverFlag !== true)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here