Home National छ्रेडतीसगढ़ के भिलाई में महज 2 महीने की रूही के साथ जो...

छ्रेडतीसगढ़ के भिलाई में महज 2 महीने की रूही के साथ जो कुछ भी हुआ उसे सुनकर आपकी भी रूह कांप उठेगी

65
छत्‍तीसगढ़ के भिलाई में रहने वाले एक दंपत्ति की दुधमुंही महज 2 माह की बच्ची क‍ि इसलिए मौत हो गई कि उसे कोरोना पॉजिट‍िव बता दिया गया.

छेदतीसगढ़ के भिलाई में रहने वाले एक दंपत्ति की दुधमुंही महज 2 महीने की बच्ची कही इसलिए मौत हो गई कि उसे कोरोना पोजिटिव बता दिया गया।

छत्तीसगढ़ समाचार: छेदतीसगढ़ की बच्ची को आज ऐसी सजा मिली कि वह सद्-सद् के लिए अपनों से दूर हो गई है। दुनिया देखने से पहले ही जालिम दुनिया ने उसकी जिंदगी छीन ली है। अब बची है तो बस परिजनों के आंसूओं की बहती बहनों में उसकी शब्दावली। महज 2 महीने की रूही के साथ जो कुछ भी हुआ उसे सुनकर आपकी भी रूह कांप उठेगी।

कोरोना मरीजों के बेहतर इलाज का दंभ भरने वाले छेदतीसगढ़ प्रशासन की आज हम ऐसी हकीकत बताने जा रहे हैं, जिसने सभी दावों को खोखला साबित कर दिया है। दरअसल छड़तीसगढ़ के भिलाई में रहने वाले एक दंपत्ति की दुधमुंही महज 2 महीने की बच्ची कही इसलिए मौत हो गई कि उसे कोरोना पोजिटिव बता दिया गया। फिर परिजन बच्ची को लेकर दुर्ग से रायपुर तक का सफर तय करते रहे, लेकिन उस बच्ची का इलाज करना तो दूर उसे भर्ती करने तक स्वास्थ्य विभाग ने उचित नहीं समझा। आखिरकार इलाज नहीं मिलने पर उसकी मौत हो गई, लेकिन सबसे बड़ी बात जब मौत हो गई तब उस बच्ची की रिपोर्ट निगेटिव आ गई। इस मौत ने अब प्रशासनिक कामकाज पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं। जिस बच्ची का कोई कसूर ही नहीं था उस बच्ची को आज ऐसी सजा मिली कि वह सद्-गुण के लिए अपनों से दूर हो गई है। दुनिया देखने से पहले ही जालिम दुनिया ने उसकी जिंदगी छीन ली है। अब बची है तो बस परिजनों के आंसूओं की बहती बहनों में उसकी शब्दावली। महज 2 महीने की रूही के साथ जो कुछ भी हुआ उसे सुनकर आपकी भी रूह कांप उठेगी। रूही को दुर्ग जिला चिकित्सालय में कोरोना पॉजिटिव बता दिया गया और उसे रायपुर जिला चिकित्सालय रेफर कर दिया गया। बच्ची के मामा श्रीकांत दास ने बताया कि कही के बाद रूही अपने परिजनों के साथ सिर्फ एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक घूमती रही, लेकिन उसे इलाज नसीब नहीं हो पाया। बच्ची को लेकर भक्त रहे परिजनों ने अपनी आपबीती चिकित्सकों को बताई, लेकिन जैसे उनकी मानवीय संवेदनाएं मर गई थीं। आखिरकार उस दुधमुंही बच्ची ने इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया। रूही की इलाज के अभाव में दर्दनाक मौत होने के बाद परिजन उसका अंतिम संस्कार करने जब घर लौटे तो एक मोबाइल में आई रिपोर्ट ने उन्हें चौका दिया। रूही की रिपोर्ट निगेटिव आई, लेकिन 2 महीने की जगह 20 साल लिखी गई थी। देखकर परिजनों के होश उड़ गए। कुदरत को शायद यही मंजूर था कि जो कसूर उसका था ही नहीं उसकी सजा दे दी गई। इस मामले की शिकायत बच्ची के मामा ने सीएचओओ दुर्ग डॉ। गंभीर सिंह ठाकुर और दुर्ग कोतवाली थाना में की.इस पूरी घटना ने प्रशासन की लचर व्यवस्था को उजागर कर दिया है। अंत में जब परिजन बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचे तो उसे कैसे कोरोना पॉजिटिव बता दिया गया। रायपुर जिला अस्पताल वीक्षक क्यों रेफर किया गया? जहाँ कोरोना का इलाज होता ही नहीं है और क्यों प्रदेश के सबसे बडे़ अम्बेडकर अस्पताल में परिजन इलाज के लिए गिडगिडेट रहे और बच्ची को देखने और सुनने वाला कोई नहीं आया? क्या व्यवस्था है? कोरोना टाइपों का इलाज क्या है? मानों आज एक बच्ची ने कुर्बानी देकर सिस्टम को दिखाने का प्रयास किया है, इसलिए वर्तमान हातात कैसे है। यदि अब भी नहीं चेते तो हजारों लोगों की जान दावं पर लगी है। आज परिजन इसी लापरवाही का शिकार हुए हैं जो शासन और प्रशासन से न्याय की गुहार लगा रहे हैं।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i)w[l]=w[l])(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript()
var PWT = ;
var googletag = googletag

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);


छ्रेडतीसगढ़ के भिलाई में महज 2 महीने की रूही के साथ जो कुछ भी हुआ उसे सुनकर आपकी भी रूह कांप उठेगी

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here