Home Bollywood Movie Reviews जानिए कैसा है जॉन की रॉकी ब्रैंडसम

जानिए कैसा है जॉन की रॉकी ब्रैंडसम

3
जानिए कैसा है जॉन की रॉकी ब्रैंडसम

2010 में आई दक्षिण कोरियाई फिल्म के एक हिंदी रीमेक रॉकी पीसीसम में कहानी को नए तरीके से प्रस्तुत नहीं किया गया है।

2010 में आई दक्षिण कोरियाई फिल्म के एक हिंदी रीमेक रॉकी पीसीसम में कहानी को नए तरीके से प्रस्तुत नहीं किया गया है।

नई दिल्ली। 2010 में आई दक्षिण कोरियाई फिल्म के एक हिंदी रीमेक रॉकी पीसीसम में कहानी को नए तरीके से पेश नहीं किया गया है। फिल्म की कहानी एक रूखे नायक के इर्द-गिर्द घूमती है जो अगवा की गई आठ साल की एक बच्ची को बचाने के लिए जी-जान से जुटा हुआ नजर आता है। निर्देशक मार्किकांत कामत ने फिल्म का ताना-बाना गो का बुना है। लेकिन जैसा कि आमतौर पर हिंदी सिनेमा के बुनियादी ढांचे की फिल्मों में होता है, यह गो मौज मस्ती की जगह नहीं है। इस फिल्म की कहानी जैसे-जैसे आगे बढ़ती है इसमें क्रूर अपराधी, मादक पदार्थ के तस्कर और बच्चों के तस्करों सहित कई उतार-चढ़ाव देखने को मिलते हैं। सह निर्माता और मुख्य अभिनेता जॉन अब्राहम ने अब तक की भूमिका के अनुसार यह उनकी महत्वपूर्ण किरदार है। लेकिन भावनात्मक भावनात्मक पहलू की कमी के कारण रॉकी ब्रांड्सस के अपने किरदार में वह अपने पुराने एडेंज से दूर जाने के लिए संघर्ष करते नजर आ रहे हैं। फिल्म में भाव से अधिक शारीरिक धक्का का असर नजर आता है। इसमें पूरी तरह से जॉन अब्राहम के शारीरिक सौष्ठव को दिखाने की कोशिश की गयी है। इस सबके अलावा मुख्य अधिकारी की अपनी तकलीफ एक कोने में गुम रहती है। सिम्मेटोग्राफर शंकर रमन ने इस फिल्म को बेहतर तरीके से तैयार किया है। साथ ही आरिफ शेख ने कौशल से रॉकी ब्रांड्ससम का क्वेरी भी किया। मुनीक खलनायक की भूमिका निर्देशक ने खुद की थी। लेकिन वह खुद फिल्म के समाप्त होने से कुछ देर पहले ही सामने आते हैं। रॉकी एसएमएसस फ्लैशबैक में चलने वाली फिल्म है जिसमें आइटम नंबर और पृष्ठभूमि में चलने वाली कहानी देखने को मिलती है। हालांकि, सिनेमा घर से बाहर निकलने पर कोई यादगार रखने वाला गीत इसमें आपको नहीं मिलेगा।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i)[];w[l].push(‘gtm.start’:
new Date().getTime(),event:’gtm.js’);var f=d.getElementsByTagName(s)[0],
j=d.createElement(s),dl=l!=’dataLayer’?’&l=”+l:”‘;j.async=true;j.src=”https://www.googletagmanager.com/gtm.js?id=”+i+dl;f.parentNode.insertBefore(j,f);
)(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript()
var PWT = ;
var googletag = googletag

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced) (PWT.a9_BidsReceived && PWT.ow_BidsReceived))
window.initAdserverFlag = true;
PWT.a9_BidsReceived = PWT.ow_BidsReceived = false;
googletag.pubads().refresh();

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here