Home Technology डिजिटल गिटैक्शन में भारत दुनिया में सबसे आगे, फिर भी 61 प्रतिशत...

डिजिटल गिटैक्शन में भारत दुनिया में सबसे आगे, फिर भी 61 प्रतिशत जेटैकेन नर्सिंग

96
अकेले भारत में 2 करोड़ 55 लाख से ज्यादा ट्रांजैक्शन हुए.

अकेले भारत में 2 करोड़ 55 लाख से ज्यादा बिटैक्शन हुए।

पेमेंट सिस्टम कंपनी ACI विश्व-व्यापी वर्ष 2020 की रिपाएर्ट के बारे में कहती है, 2025 तक भारत में डिजिटल गिटैक्शन (डिजिटल लेनदेन) का इस्तेमाल 71 फीसदी से ज्यादा होगा। वैसे तो डिजिटल पेमेंट का चलन बढ़ रहा था, लेकिन कोरोना के बाद इसमें बहुत तेजी से आई है।

नया है दिल्ली पूरी दुनिया में डिजिटल जितैक्शन (डिजिटल लेनदेन) के मामले में भारत सबसे आगे है। पेमेंट सिस्टम कंपनी दुनिया भर में ACI की वर्ष 2020 की रिपाएर्ट के अनुसार 2025 तक है भारत में डीआईजी ट्रांसजेंडर का इस्तेमाल किया 71 प्रति है से है ज्यादा होगा। इसी तरह तो डीआईजी पेमेंट का जा रहा है बढ़ाएँ ही रहा है था, लेकिन कोरोना के बाद में वहाँ है तेजी से आई है। रिपोर्ट के कहता है पूरी तरह से दुनिया में 2019 के बाद में से है डीआईजी पेमेंट में ४१ प्रति है उठो हुआ है।

करोड़ रु ५५ लाख से ज्यादा जितैक्शन अकेले भारत में
दुनिया भर में ACI की रिपोर्ट के अनुसार, 2020 में पूरी तरह से दुनिया मेंकरोड़ रुलाख है डीआईजी कैसरैनेस हुआ, जो यह है पिछला साल के से अधिक है ४१ प्रति है ज्यादा हैं। वहाँ है सबसे ज्यादा ज्यादाकरोड़ रु ५५ लाख है डीआईजी कैसरैनेस भारत में हो गया। वहाँ है १५ प्रति है कैसरैनेस डीआईजी पेमेंट से है जुड़े हुए हैं हो गया हैं। अभी तक भी ६१ प्रति है कैसरैनेस बिचारा हो रहा है हैं। कंपनी का दावा है है वह 2024 में ऑफ़लाइन कैसरैनेस का बाजार शेयर करें 50 प्रति है है, जो 2025 में 71 पर है प्रति है तक है हो होगा।

ये भी पढ़ें – होली के बाद एकदम से गिर गई चिकन के रेट्रो, अब बिक रही है यह भाव, देखिए पूरी लिस्ट

उद्योग भी नए ट्रेंड पर तेजी से कर रहा है काम कर रहा है
इस परिवर्तन को अपनाना के के लिए अब बड़ा कदम जा रहा है रहा है हैं। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा पेमेंट बैंकों को बड़ा है बूस्ट दे दो हो गया लाख है तक है डिपोजित ले रहा है और नॉन बैंकिंग पेमेंट संस्थान को आरटीजीएस एनईएफटी की इजाजत दे दो दी है। उद्योग भी नया है ट्रेंड पर है काफी है तेजी से से है काम करते हैं कर रहा है हो रहा है है।

भ्रम भी के बारे में है आई डीआईजी कैसरैनेस ग्रन्थ
डीआईजी कैसरैनेस की ग्रन्थ के साथसाथ साइबर अपराध भी तेजी से से है बढ़ाना हैं। फिशिंग, हेलिंग, आइडेंटिटी थे जैसे हैं अपराध आम हो चले गए हैं। इसलिए डीआईजी कैसरैनेस की ग्रन्थ के के लिए सबसे ज्यादा जरूरी है है कैसरैनेस का पूरी तरह से तरह से है सुरक्षित है होना। पता है की इच्छा है हैं वह इसके के लिए कंपनियां को भी बड़ा है तैयारी करना चाहिए होगा। कोरोनाकाल ने कहा ऑफ़लाइन कैसरैनेस को जो गति दी है, वह आगे इस क्षेत्र में व्यापार के बड़ा स्थान भी के बारे में है छोटी गाड़ी

4500 रुपये से अधिक के लेनदेन में रु

इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्राविधिक मंत्रालय की डिजिटल लेन-देन के बारे में पिछले महीने संसद में पेश की गई रिपाेर्ट भी दर्शाती है कि भारत में इसकी ट्रेंड लगातार बढ़ रही है। वित्त वर्ष 2019-20 में डिजिटल लेनदेन की संख्या 4572 कराधीन थी, जबकि वित्त वर्ष 2018-19 में यह 3134 कराधीन था, ताए वर्ष 2017-18 में 2071 कराटे का। रिपाएर्ट बताती है कि जनवरी 2020 से अगस्त 2020 डिजिटल लेनदेन की संख्या 3106.64 कराटे थी, जिसमें लॉकडाउन के समय यानि मार्च से लेकर मई तक कुल 1050.59 कराटे बार ट्रांसफर हुआ। इसने मैडिंग के बाद से यानि जून से अप पकड़ी और साल के अंत तक यह 4572 ओवर तक पहुंच गया।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i)[];w[l].push(‘gtm.start’:
new Date().getTime(),event:’gtm.js’);var f=d.getElementsByTagName(s)[0],
j=d.createElement(s),dl=l!=’dataLayer’?’&l=”+l:”‘;j.async=true;j.src=”https://www.googletagmanager.com/gtm.js?id=”+i+dl;f.parentNode.insertBefore(j,f);
)(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript() ;
googletag.cmd = googletag.cmd

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here