Home Bollywood Movie Reviews फिल्म समीक्षा: फिल्म पिंक देखी जाए तो, वकील साब में कुछ खास...

फिल्म समीक्षा: फिल्म पिंक देखी जाए तो, वकील साब में कुछ खास नहीं दिखेगा

10
फिल्म समीक्षा: फिल्म पिंक देखी जाए तो, वकील साब में कुछ खास नहीं दिखेगा

फिल्म: वकील कैब भाषा: तेलुगु ड्यूरेशन: 156 मिनट ओः स्पेशल वीडियो अमेजन️️ के️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️️ सभी को ये फिल्म पसंद भी आयी और इसे कई अवॉर्ड्स भी मिले। यह कि किस तरह की कहानी में भी सहजता से पता लगाया जाता है। तमिल में बने “नरस्कदा परवाई” और अब तेलुगू में “वकील साब”। पिंक में अमिताभ बच्चन ने एक बुज़ुर्ग वकील का किरदार निभाया था और उनकी आवाज़, भावरहित आँखें और कानूनी क्लिप झूठों पर उनकी पकड़ की वजह से फिल्म में न सिर्फ वज़न आ गया था बल्कि पूरी फिल्म का मूल भाव अमिताभ की ज़रिये निर्दिष्ट होने जा रहा था। तेलुगू फिल्म ‘वकील साब’ का मामला यहां थोड़ी मां के लिए जाता है। ‘वातावरण सब्ज़ी’ की समस्या ठीक करने में मदद करता है। व्यक्तिगत रूप से सामाजिक और अच्छी तरह से सक्रिय रहने वाले लोगों की इंसानों को वाट्सएप में बैठने वाले व्यक्ति हों। फिल्मस्टार चिरंजीवी के सबसे छोटे भाई पवन कल की अपनी राजनैतिक पार्टी है और उनके फैंस के अलावा बहुत से लोग उन्हें उनकी राजनीतिक विचारधारा के लिए भी फॉलो करते हैं। पवन अपने भाई के परिवार के साथ मिलकर पार्टी की स्थापना की। अपनी पार्टी के सदस्यों की स्थिति में रहते हैं। स्थायी संपत्ति के साथ मिलकर रहने वाले और निश्चित रूप से संपत्ति के साथ रहने के लिए संपत्ति के साथ मिलकर तय करते हैं। ️️️️️️️️️️️️ अब वे बीजेपी के साथ मिल कर 2024 चुनावों की तैयारी कर रहे हैं। वकील साब में तेलुगु फिल्मों का मसाला मौजूद है और खास कर पावर स्टार पवन कल की छवि का ख़ास रख रखा गया है। पवन और उनकी गर्लफ्रेंड की भूमिका में श्रुति हसन की लव स्टोरी भी है। जनता की आवाज़ उठाने वाले स्टूडेंट लीडर और बाद में वकील बने पवन हमेशा मज़लूमों की लड़ाई लड़ते हैं और उनके विरोधी इसी वजह से उनकी पत्नी श्रुति की हत्या कर देते हैं। हवा का अपने हिसाब से अपने हिसाब से बदलते हैं। लव से एक कॉलोन में रहने वाले खिलाड़ी एक सदस्य के सदस्य के रूप में ऐसी ही रहने वाली प्रजातियों में से एक में बदल गए थे।” सदस्य का सदस्य था । । इन सब में एक लड़की, शराब की बोतल, सांसद बेटे के सर पर दे मारती है और शुरू होती है पुलिस और लड़कियों की इज़्ज़त को भरे बाजार बूमने वाले किस्सों का सिलसिला। हवा में चलने के लिए फिर भी कुछ भी करने के लिए, वो भी जीती हुई लड़की को इंसाफ़मते हैं.. . . . . . . . . तो.साथ ही साथ.. . . . . . . . तो बल्कि थोड़ी देर के लिए भी स्थिर हों।) ; जीत जीत ह जीत पुनः सुनिश्चित करें। जीत. वो वो वो जीतें। पवन की अपनी एक इमेज है, इसलिए ऐसी स्थिति में हैं। पिंक की खासियत थी की फिल्म का मूड बहुत जल्दी सेट हो जाता है और अमिताभ का इंटेंस नेक्टर उस मूड को अंत तक बनाये रखता है, जब वो केस जीत जाते हैं तब भी। वकील साब में ऐसा नहीं है। पूरी फिल्म में अलग अलग मूड हैं। गुंडगुंड की पवन, श्रुति मौसम की पवन में पवन, मौसम की प्रकृति, पवन, शराब की हवा, पानी न आने वाली पवन, एक दिन के लिए कुछ कुछ छोड़ कर फिर से वकालत करने वाले पवन, वकील होते हुए भी जिरह के दौरान कुर्सी का हत्था उखाड़ने वाले हवा और सड़कछाप मवालियों की तरह कोर्ट में जिरह करते पवन। कुल जमा, फिल्म पवन के ऊपर केंद्रित हैं और तकरीबन सभी कुछ पवन के माध्यम से ही कहलवाया गया है। इस बीच में, हवा, फिलॉसॉफिकल डायलॉग भी मारते रहते हैं। यह इस फिल्म की ताक़त है और इस फ़िल्म की कमज़ोरी भी। पूरी फिल्म पवन काल के कन्धों पर जैसी की उनकी हर फिल्म होती है। यह मशीन खराब होने की समस्या से प्रभावित होती है, जब यह ना-इंसाफी की समस्या से प्रभावित होती है।. . . . . . . से तो खतरनाक है .. . . . . . . . से तो खतरनाक है . . . . . . . . . . . तो . . . . . . . . . . . ..”‘.””’. . . . . . . . . से . से . . . तो . . . . . .जाना होना .. . . . . . . . . . तो ) . पूरी फिल्म में एक बार भी प्रति दया या सहानुभूति की भावना। फिल्म यहां धुंध कर जाती है। रोग की रोकथाम। टैपसी पन्नू का कीटाणुनाशक। अमिताभ का शांत, सादात और फर को ज करने के बूते वकील का किरदार। मगर वो पिंकी. इसमें कहानी का महत्त्व था। अभिनेता साब का नाम ही ऐसा है, जो कि पहली बार पवन कल्याण के रूप में आता है। निवेदिता थॉमस एक प्रतिभाशाली अभिनेता हैं। प्रभावशाली और परिपक्व प्रदर्शन से वो सबका ध्यान खींचे जाते हैं। प्रकाश राज और मुकेश ऋषि का किरदार फिल्म में बहुत कम है और इनका इस्तेमाल बेहतर हो सकता था। बाकी कलाकार की अपनी भूमिका में ही ठीक हैं। हों हों. क्लाइमेक्स से पहले पवन काल जिस तरह मेट्रो में गुंडों से लड़कियों की रक्षा करते हैं वो हिंदी फिल्म के दर्शकों को अजीब लगता है। लेखक वेणु श्रीराम ने पिन्की की कहानी पर हिंदी में सही ढंग से लिखा है। डायलॉग भी उसी तर्ज़ पर हैं और पवन काल की लार्जर दैन लाइफ इमेज को भुनाने का पूरा पूरा मसाला रखा गया है। मौसम को लेकर. अनिरुद्ध रॉय चौधुरी, शूजित सरकार और रितेश शाह ने ‘पिटित’ प्राण में जो मेहनत की, एक एक सीन ने एक डायलॉग पर काम किया, वे वेणु ने निर्णय लिया और निश्चित रूप से ठीक नहीं किया। तरह की कोई रिस्क लेना ठीक भी नहीं होता। पहली बार पवन कल की किसी फिल्म में एस थमन को राष्ट्रीय के तौर पर काम करने का मौक़ा मिला है और उन्होंने इस मौके को पूरी तरह से बनाया है। फिल्म में 4 गाने हैं। गाने। सामने होने के पहले ही YouTube पर धूम मचा चुके थे। फिल्म में गाने बड़े अच्छे से कहानी में पिरोये गए हैं और पवन कल्याण की हुर इमेज को चार चांद लगाते हैं। भविष्यवाणीमेटोग्राफी और एडिटिंग ठीक हैं, कोई कम नहीं। पर पवन कल्याण बहुत भारी पड़ते हैं। मूल कहानी से भक्तने के बाद जैसे तैसे कोर्ट में जिरह शुरू होती है तो वहां भी पवन अपनी रोलेक्स घडी घुमाते हैं या कुर्सी का हैंडल उखाड़ देते हैं। स्टार, कहानी पर भारी पड़ा है और इसलिए पिंक जैसा है। इम्पैक्ट नहीं पैदा हुआ। मसाले फिल्म की तरह देख कर इस फिल्म का आनंद लेना चाहिए। और विषय के गमभीरी को समझने के लिए और कहा। नी के साथ दिशा-निर्देश कैसे देखें यह देखने के लिए आप “पिंकिट” देख सकते हैं। वकील साब कभी भी पिंक नहीं बनने वाले थे और न ही बन सकते थे।

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i))(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript() ;
googletag.cmd = googletag.cmd

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here