Home World विदेश मंत्री एस। जयशंकर बोले- अफगानिस्तान में जरूरी है दोहरी शांति

विदेश मंत्री एस। जयशंकर बोले- अफगानिस्तान में जरूरी है दोहरी शांति

143
विदेश मंत्री एस. जयशंकर

विदेश मंत्री एस। जयशंकर

हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन: स्थाई और अफगानिस्तान के लिए सुरक्षा और सहयोग पर क्षेत्रीय प्रयास ‘इस्तांबुल प्रक्रियाओं’ के तहत नौवें हार्ट ऑफ एशिया इस्तांबुल प्रॉसेस की मंत्री स्तरीय बैठक हो रही है, जिसमें भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ये बातें कहीं।

दुशांबे। विदेश मंत्री एस। जयशंकर (विदेश मंत्री एस जयशंकर) ने कहा है कि अफगानिस्तान में दोहरी शांति प्रक्रिया की जरूरत है। साथ ही उन्होंने कहा कि अफ़गानिस्तान में शांति पड़ोसी देशों के हक़ में है। उन्होंने ये बातें हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन (हार्ट ऑफ एशिया कॉन्फ्रेंस) में कही। दुशांबे में इस सम्मेलन में अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया पर क्षेत्रीय सहमति बनाने के लिए लगभग 50 देशों और आंतरिक संगठनों के प्रतिनिधि जमा हुए हैं।

विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, ‘अफगानिस्तान में एक स्थायी शांति के लिए, हमें एक मूल’ दोहरी शांति ‘की आवश्यकता है, अर्थात अफगानिस्तान के भीतर शांति और अफगानिस्तान के आसपास की शांति। इसमें उस देश के भीतर और उसके आसपास के सभी मौकों के सामंजस्य की आवश्यकता होती है। अगर शांति प्रक्रिया को सफल बनाना है, तो यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि बातचीत करने वाले पक्ष एक राजनीतिक समाधान तक पहुंचने के लिए प्रतिबद्ध रहें। ‘

अफगानिस्तान में हिंसा और रक्तपात पर चिंता जताते हुए विदेश मंत्री एस। जयशंकर ने कहा की 2020 में 2019 की तुलना में फ़ीसदी अधिक नागरिकों की जान हिंसा में गई और 2021 भी इससे बेहतर नहीं दिखती।

हार्ट ऑफ एशिया सम्मेलन में विदेश मंत्री ने अफगानिस्तान के निर्माण और विकास में भारत की भूमिका को भी उजागर किया विदेश मंत्री ने कहा कि भारत अफगानिस्तान के विकास के लिए कटिबद्ध है और अफगानिस्तान के सभी प्रांतों में भारत के समर्थन से विकास से जुड़ी परियोजनाएं चल रही हैं। हैं और काबुल के लोगों को पीने का पानी मुहैया करना इस सूची में नया जुड़ाव हुआ है।

जयशंकर का ट्वीट

सम्मेलन शुरू होने से पहले जयशंकर ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी से भी मुलाकात की। बता दें कि अफगान सरकार और तालिबान 19 साल से चले आ रहे युद्ध को खत्म करने के लिए आपस में सीधा संवाद कर रहे हैं। इस युद्ध में हजारों लोग मारे गए हैं और अफगानिस्तान के कई हिस्से तबाह हो गए हैं। अफ़गानिस्तान की शांति और स्थिरता में भारत का एक बड़ा पक्ष रहा है जो युद्धग्रस्त देश में कई गतिविधियों से पहले ही अरब डॉलर की सहायता दे चुका है।

ये भी पढ़ें- स्वेज में जाम के लिए जहाज के भारतीय क्रूर मेंबर्स बन सकते हैं ‘बलिदान का बकरा?’

स्थाई और अफगानिस्तान अफगानिस्तान के लिए सुरक्षा और सहयोग पर क्षेत्रीय प्रयास ‘इस्तांबुल प्रॉसेस’ के तहत नौवें हार्ट ऑफ एशिया इस्तांबुल प्रॉसेस की मंत्री स्तरीय बैठक हो रही है। इसकी शुरुआत दो नवंबर, 2011 को तुर्की से हुई थी। पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी भी सम्मेलन में शामिल हो रहे हैं। दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में शामिल होने के कारण दोनों नेताओं के बीच मुलाकात की संभावनाओं को लेकर भी अटकलें लगायी जा रही थीं।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i))(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript()
var PWT = ;
var googletag = googletag

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here