Home Bollywood स्टारडम के बाद असफलता झेलना ऋषि कपूर के लिए आसान नहीं था,...

स्टारडम के बाद असफलता झेलना ऋषि कपूर के लिए आसान नहीं था, प्रेग्नेंट नीतू को एकीकृत किया गया था!

75
असफलता के लिए ऋषि ने नीतू को जिम्मेदार ठहराया था. (फोटो साभार : neetu54/Instagram)

असफलता के लिए ऋषि ने नीतू को जिम्मेदार ठहराया था। (फोटो साभार: नीतू 54 / इंस्टाग्राम)

बॉलीवुड को कई सुपरहिट फिल्में देने वाले ऋषि कपूर (ऋषि कपूर) को असफलता भी झेलनी पड़ी थी। इसका गुस्सा उन्होंने अपनी पत्नी नीतू कपूर (नीतू कपूर) पर उतारा था, वो भी तब जब नीतू गर्भवती थीं।

मुंबई: लगभग दो साल तक कैंसर से जूझने के बाद दुनिया को अलविदा कहने वाले ऋषि कपूर (ऋषि कपूर) । आज पहला बरसी है। आज उनसे जुड़ी तमाम कहानियां सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। ऋषि कपूर ने अपनी बायोग्राफी खुल्लम खुल्ला: ऋषि कपूर अनूपर्ड (खुल्लम खुल्ला: ऋषि कपूर बिना सेंसर) में खुलकर अपनी जिंदगी के बारे में लिखा है। बता दें कि ऋषि कपूर और नीतू सिंह की शादी बॉलीवुड की चर्चित शादियों में से एक थी। लेकिन अपनी किताब में ऋषि कपूर ने स्वीकार किया था कि वे एक पारसी लड़की से प्यार करते थे। उन्होंने अपनी किताब में लिखा था कि उस पारसी लड़की का नाम यास्मीन मेहता था। ये बात तब की है जब उनकी पहली फिल्म ‘बॉबी’ नहीं आई थी। फिल्म ‘बॉबी’ जब आई तो ऋषि कपूर और डिंपल कपाड़ियां के रिश्ते को लेकर खूब सुर्खियां बनी हुई हैं। इसकी वजह से ऋषि कपूर और ऑस्मीन का रिलेशन आगे नहीं बढ़ पाया। ऋषि कपूर की फिल्म ‘बॉबी’ की अपार सफलता ने रातोंरात उन्हें स्टार बना दिया। उनके पास कई फिल्में भी आईं। लोगों की उम्मीद भी बढ़ गई। लेकिन बॉबी के बाद कई फिल्में बॉक्स ऑफिस पर कुछ खास करामात नहीं दिखा पाईं। एक्टर ने स्टारडम का दौर देखा तो नाकामी भी देखी। उस समय तक उनकी और नीतू सिंह की शादी हो चुकी थी। ऋषि कपूर के लिए ये कबेजशा और निराशा से भरा हुआ था।उसी तौरशा में उन्होंने अपनी नाकामी के लिए नीतू सिंह को जिम्मेदार ठहराना शुरू कर दिया। उस दौरान नीतू सिंह प्रेग्नेंट थीं। लेकिन उन्हें ऋषि की मेंटल हालत का अंदाजा था इसलिए चुपचाप उनका गुस्सा झेल गया। हालांकि गर्भवती महिला के लिए ये समय काफी मुश्किल भरा होता है। ऋषि ने माना कि घरवालों और फ्रेंड्स की वजह से ही वे फ्रस्ट्रेशन के उस दौर से बाहर निकलने में सफल रहें। लेकिन ऋषि कपूर को इसका एहसास था कि नीतू सिंह ने उस समय बहुत झेला था।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i)w[l]=w[l])(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript() ;
googletag.cmd = googletag.cmd

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)
if((forced === true && window.initAdserverFlag !== true)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here