Home Bollywood Movie Reviews Google एक्टर ज़ैच एवरी गिरफ्तार, पोंजी स्कीम में गलती का आरोप

Google एक्टर ज़ैच एवरी गिरफ्तार, पोंजी स्कीम में गलती का आरोप

109
जैक एवरी. फोटो साभार- @_zachavery/twitter

जेक एवरी। फोटो साभार- @ _zachavery / twitter

सिक्योरिटी एंड एक्सल कमिशन (SEC) की ओर से साफ किया गया है कि जैक एवरी का असली नाम जाचरी होरविज़न है। जैक ने एक लग्जरी लाइफ स्टाइल जीने के लिए इस स्कीम का इस्तेमाल किया, जिसके जरिए वे अपने सहयोगियों को सैकड़ों मिलियन डॉलर का धोखा दिया है।

मुंबई। अमेरिकन एक्टर जैक एवरी (ज़ैक एवरी) को लॉस एंजिल्स में एफबीआई के एजेंटों ने गिरफ्तार कर लिया है। जैक एवरी पर कथित रूप से एक पोंजी स्कीम (पोंजी स्कीम) के मास्टरमाइंड होने के आरोप है। अमेरिकी अधिकारियों के मुताबिक, जैक ने एक लग्जरी लाइफ स्टाइल जीने के लिए इस स्कीम का इस्तेमाल किया, जिसके जरिए वे अपने सहयोगियों को सैकड़ों मिलियन डॉलर का धोखा दिया है। गोलीबारी के आरोप में दोषी पाए जाने पर उन्हें 20 साल तक की जेल हो सकती है।

सिक्योरिटी एंड एक्सल कमिशन (SEC) की ओर से साफ किया गया है कि जैक एवरी का असली नाम जाचरी होरविज़न है। यह योजना 2015 में शुरू हुई थी और जैक एवरी ने पीड़ितों को 35 प्रतिशत से अधिक रिटर्न देने का वादा किया था।

उन्होंने सूत्रों को बताया कि उनकी कंपनी 1inMM कैपिटल फिल्म वितरण अधिकार खरीदेगी और उन्हें नेटफ्लिक्स और एचबीओ को लाइसेंस मिलेगा लेकिन वास्तव में कंपनी के साथ जैक एवरी का कोई व्यावसायिक संबंध नहीं था। सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट फॉर रॉबर्ट के कार्यालय ने एक बयान में बताया कि ‘फिल्म वितरण अधिकार खरीदने के बजाय 34 साल के जैक ने पोंजी स्कीम के रूप में कंपनी का संचालन कर दिया। इसके अलावा अपने पुराने अधिकारियों के भुगतान करने के लिए उन्होंने नए निवेशकों के पैसे का इस्तेमाल किया।

उन्होंने अपने बयान में कहा कि वैधता स्थापित करने के लिए जैक ने अधिकारियों को फर्जी लाइसेंस लाइसेंसों के साथ-साथ नेटफ्लिक्स और एचबीओ के साथ नकली वितरण समझौते दिखाए थे, जिसमें सभी जाली हस्ताक्षर किए गए थे। एसईसी का कहना है कि जैक एवरी के फिल्मी। करियर कुछ खास नहीं रहा। उन्होंने समीक्षकों द्वारा प्रतिबंधित 2020 की फिल्म ‘लास्ट मोमेंट ऑफ क्लेरिटी’ में अभिनय किया था। एक एक्टर के रूप में असफल होने के बाद उसने लग्जरी लाइफ स्टाइल जीने के लिए निवेशकों के साथ फंदे की।



<!–

–>

<!–

–>

window.addEventListener(‘load’, (event) =>
nwGTMScript();
nwPWAScript();
fb_pixel_code();
);
function nwGTMScript()
(function(w,d,s,l,i))(window,document,’script’,’dataLayer’,’GTM-PBM75F9′);

function nwPWAScript() [];
var gptRan = false;
PWT.jsLoaded = function()
loadGpt();
;
(function()
var purl = window.location.href;
var url=”//ads.pubmatic.com/AdServer/js/pwt/113941/2060″;
var profileVersionId = ”;
if (purl.indexOf(‘pwtv=’) > 0)
var regexp = /pwtv=(.*?)(&
var wtads = document.createElement(‘script’);
wtads.async = true;
wtads.type=”text/javascript”;
wtads.src = url + profileVersionId + ‘/pwt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(wtads, node);
)();
var loadGpt = function()
// Check the gptRan flag
if (!gptRan)
gptRan = true;
var gads = document.createElement(‘script’);
var useSSL = ‘https:’ == document.location.protocol;
gads.src = (useSSL ? ‘https:’ : ‘http:’) + ‘//www.googletagservices.com/tag/js/gpt.js’;
var node = document.getElementsByTagName(‘script’)[0];
node.parentNode.insertBefore(gads, node);

// Failsafe to call gpt
setTimeout(loadGpt, 500);

// this function will act as a lock and will call the GPT API
function initAdserver(forced)

function fb_pixel_code()
(function(f, b, e, v, n, t, s)
if (f.fbq) return;
n = f.fbq = function()
n.callMethod ?
n.callMethod.apply(n, arguments) : n.queue.push(arguments)
;
if (!f._fbq) f._fbq = n;
n.push = n;
n.loaded = !0;
n.version = ‘2.0’;
n.queue = [];
t = b.createElement(e);
t.async = !0;
t.src = v;
s = b.getElementsByTagName(e)[0];
s.parentNode.insertBefore(t, s)
)(window, document, ‘script’, ‘https://connect.facebook.net/en_US/fbevents.js’);
fbq(‘init’, ‘482038382136514’);
fbq(‘track’, ‘PageView’);

Read More

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here